مفهوم شبه الإيجار: مع مخطط | الهندية | الإنتاج | اقتصاديات

اقرأ هذه المقالة باللغة الهندية للتعرف على مفهوم شبه الإيجار بمساعدة رسم تخطيطي مناسب.

आभास लगान के विचार का प्रतिपादन मार्शल ने किया। इस विचार को रिकार्डो के सिद्धान्त के ऊपर विस्तृत एवं एवं संशोधित तथ्य कहा जा सकता है। मार्शल के विचार में अनेक उत्पत्ति के साधनों पूर्ति अल्पकाल अल्पकाल में स्थिर या बेलोच होती है। इससे पूर्व प्रतिपादित रिकार्डो की विचारधारा के लगान का सम्बन्ध सम्बन्ध भूमि से है क्योंकि क्योंकि की की पूर्ति पूर्ति पूर्ति पूर्ति पूर्ति बेलोच बेलोच।।।

मार्शल ने लगान को केवल भूमि से करने अपनी अपनी व्यक्त की और बताया भूमि के के उत्पत्ति उत्पत्ति के के अन्य मानव मानव मानव निर्मित निर्मित निर्मित निर्मित निर्मित निर्मित निर्मित निर्मित निर्मित निर्मित निर्मित निर्मित निर्मित निर्मित निर्मित निर्मित कहा कहा बेलोच बेलोच बेलोच।।।।। अल्पकाल में पूँजीगत साधनों द्वारा अर्जित आय मार्शल ने ने ने आभास आभास लगान का नाम दिया है।

है प्रकार आभास लगान का विचार केवल उन से सम्बन्धित सम्बन्धित है पूर्ति अल्पकाल अल्पकाल में स्थिर होती होती होती है परन्तु दीर्घकाल दीर्घकाल में बढ़ायी सकती है है है، सकती-है आदि। वह आधिक्य जो अल्पकाल में भूमि को छोड़कर मानव साधन साधन प्राप्त हैं उसे उसे आभास लगान कहा जाता है।।

यहाँ यह बात स्वतः ही स्पष्ट हो है कि लगान का विचार एक दीर्घकालीन तथ्य तथ्य जबकि आभास आभास आभास आभास का का विचार विचार एक है।। Sur लगान एक अल्पकालीन अस्थायी (فائض مؤقت قصير الأجل) है जो दीर्घकाल में में समाप्त हो है।

St ier उपर्युक्त विचार को स्टोनियर और ( ستونيير ولاهاي) है निम्नलिखित शब्दों में स्पष्ट किया है:

"मशीनों की पूर्ति अल्पकाल में निश्चित होती चाहे उनसे प्राप्त प्राप्त आय हो हो अथवा अधिक। अतः वह एक प्रकार का लगान अर्जित करती है। । में लगान समाप्त हो जाता है क्योंकि पूर्ण अथवा शुद्ध शुद्ध नहीं होता बल्कि बल्कि समाप्त हो हो हो वाली वाली आय आय अर्थात् लगान ही है।।।।।।

(العوامل الثابتة) साधन परिवर्तनशील साधन (العوامل المتغيرة) | परिवर्तनशील साधन (العوامل المتغيرة) | Fix प्रकार अल्पकाल में स्थिर लागतें (التكاليف الثابتة) लागतें परिवर्तनशील लागतें (التكاليف المتغيرة) उत्पादन की कुल कुल लागत को निर्धारित हैं।।

स्थिर लागत उत्पादन की मात्रा से स्वतन्त्र है अर्थात् उत्पादन बन्द होने की दशा में में उत्पादक को को को को में में स्थिर स्थिर लागत पड़ेगी।। विपरीत विपरीत ، परिवर्तनशील लागतें उत्पादन की मात्रा साथ बदलती रहती हैं में में उत्पादन जारी के के लिए को को को परिवर्तनशील परिवर्तनशील बराबर बराबर बराबर वस्तु वस्तु वस्तु वस्तु वस्तु वस्तु की की कीमत की।

अल्पकाल में परिवर्तनशील लागत से अधिक जितनी प्राप्त होती है वह वस्तुतः साधनों साधनों के के के कारण कारण कारण है तथा तथा तथा यही आय आभास आभास है।।।

प्रो. बिलास के शब्दों में ، "कुल आगम तथा कुल परिवर्तनशील लागतों के अन्तर ही ही आभास लगान जाता है।।"

प्रकार प्रकार ،

कुल आभास लगान = कुल आगम - कुल परिवर्तनशील लागत

إجمالي الإيجار شبه = إجمالي الإيرادات - إجمالي التكلفة المتغيرة

प्रकार प्रकार ،

औसत आभास लगान अथवा प्रति इकाई आभास लगान = औसत आगम - औसत परिवर्तनशील लागत

= AR - AVC

चित्र लगान के उपर्युक्त विचार को में 6 चित्र स्पष्ट किया किया है। C में AVC औसत परिवर्तनशील लागत वक्र तथा AC औसत कुल लागत वक्र हैं।

OP 1 निर्धारित करता है तब फर्म उसे दिया बिन्दु बिन्दु पर पर पर पर पर पर पर पर पर पर पर पर पर पर पर पर पर पर Q बिन्दु E पर वस्तु की OQ 1 मात्रा उत्पादित की जा जा है।

कीमत المرجع 1 होने की दशा में ،

प्रति इकाई आभास लगान = AR - AVC

= EQ 1 - KQ 1 = EK

कुल आभास लगान = P 1 EKR क्षेत्र

घटकर घटकर OP 2 होने की में में ،

प्रति इकाई आभास लगान = AR - AVC

= E 1 Q 2 - TQ 2 = E 1 T

कुल आभास लगान = P 2 E 1 TS क्षेत्र

OP 3 होने की दशा में ،

प्रति इकाई आभास लगान = AR - AVC

= E 2 Q 3 - E 2 Q 3 = शून्य

Z कीमत के औसत परिवर्तनशील लागत के बराबर होने की दशा में में लगान शून्य (صفر) हो जाता है। यह उत्पादन बन्द होने का बिन्दु क्योंकि के इस बिन्दु बिन्दु कम होते ही उत्पादक उत्पादक में में भी भी भी भी भी बन्द बन्द।।। Neg शब्दों में ، आभास लगान कभी ऋणात्मक (سلبي) नहीं हो सकता।

 

ترك تعليقك