عبر مرونة الطلب | الهندية | اقتصاديات

اقرأ هذه المقالة باللغة الهندية للتعرف على مفهوم المرونة المتبادلة للطلب على سلعة معينة.

Economics लोच का प्रतिपादन पुस्तक मूर (مور) ने अपनी पुस्तक "الاقتصاد الصناعي" में किया था था किन्तु विचार विचार की विस्तृत विस्तृत ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ory The ory ory ory ory ory ory ory ory ory ory ory ory ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन Robert ट्रिफिन ट्रिफिन Robert ट्रिफिन ट्रिफिन ट्रिफिन Robert Robert Robert Robert ट्रिफिन ट्रिफिन

कुछ वस्तुएँ इस प्रकृति की होती हैं एक वस्तु का कीमत दूसरी वस्तु वस्तु की को भी भी भी कर देता देता देता है है दूसरी वस्तु वस्तु वस्तु की की की की की की की की की।।। में शब्दों में ، जब वस्तुएँ आपस में सम्बन्धित हैं तब तब वस्तु की कीमत कीमत का का का प्रभाव प्रभाव वस्तु वस्तु की माँग है है।।

"एक वस्तु की कीमत में परिवर्तन से सम्बन्धित वस्तु की माँग पर पड़ने वाले मात्रात्मक को को माँग माँग माँग माँग आड़ी आड़ी लोच है।।"

है लोच को निम्नलिखित सूत्र से व्यक्त किया जा सकता है:

है की आड़ी लोच तीन प्रकार की वस्तुओं में उपस्थित हो सकती है:

(1) In वस्तुओं में (في البدائل):

दो पूर्ण स्थानापन्न वस्तुओं में प्रतिस्थापन दर सदैव स्थिर तथा एक समान रहेगी। Tea तथा कॉफी (الشاي والقهوة) ، Th तथा कैम्पा कोला (Thumsup & Campa Cola) ऐसी ही वस्तुएँ हैं। स्थानापन्न वस्तुओं के बीच माँग की आड़ी लोच अधिक होती है।

Inf स्थानापन्न वस्तुओं वस्तुओं माँग की अनन्त Inf (لانهائي) स्थानापन्नों है किन्तु कमजोर oor (بدائل ضعيفة) में माँग की आड़ी लोच कम है।

(13 (a) में स्थानापन्न वस्तुओं की माँग की लोच शून्य से अधिक प्रदर्शित की है है वस्तु वस्तु वस्तु वस्तु वस्तु वस्तु वस्तु वस्तु वस्तु वस्तु वस्तु वस्तु वस्तु वस्तु मात्रा मात्रा में में में में में में में में वस्तु वस्तु।।।।।।।।। Greater दशा में माँग धनात्मक आड़ी लोच (أكبر من الصفر) होगी।

(2) In तथा संयुक्त माँग वाली वस्तुओं में (في السلع المكملة والطلب المشترك):

कुछ वस्तुएँ ऐसी होती हैं जिनकी माँग एक साथ की जाती है। स्कूटर तथा पेट्रोल ، पेन तथा इंक ، डबलरोटी तथा मक्खन आदि ऐसी ही श्रेणी की वस्तुएँ हैं। है वस्तुओं में यदि एक वस्तु की कीमत में वृद्धि होती है तो उससे सम्बन्धित सम्बन्धित वस्तु माँग में हो हो जायेगी जायेगी जायेगी जायेगी जायेगी، जायेगी हो हो चाहे दूसरी की अपरिवर्तित ही रहे।।

Neg दशा में आड़ी लोच ऋणात्मक (سلبي) अथवा शून्य से से कम जायेगी।। (13 (b) में ऋणात्मक आड़ी लोच (e d <0) प्रदर्शित की गयी है।

(3) In वस्तुओं में ( في السلع المستقلة):

स्वतन्त्र वस्तुओं के सम्बन्ध में माँग की आड़ी लोच शून्य होगी। स्वतन्त्र वस्तुएँ न तो स्थानापन्न वस्तुओं की श्रेणी आती हैं हैं और ही पूरक पूरक वस्तुओं की में।। (13 (ج) में ऐसी वस्तुओं के मध्य माँग आड़ी आड़ी लोच स्पष्ट की गयी है।

 

ترك تعليقك