التنمية الاقتصادية في أستراليا | الهندية | اقتصاديات

 قراءة هذا المقال باللغة الهندية لمعرفة المزيد عن التنمية الاقتصادية في أستراليا. 
 आस्ट्रेलिया महाद्वीप में विशाल मरूस्थल और विस्तृत पठार पाये जाते हैं। यह एक साधन सम्पन्न महाद्वीप हैं। इस महाद्वीप के अधिकांश भाग में वर्षा बहुत कम होती। 

वन वन ، वन्यप्राणी अनेक प्रकार के हैं और खनिज संपदा बहुत है। आधुनिक वैज्ञानिक तरीकों से यहाँ के संसाधनों का अच्छा उपयोग किया गया है। आस्ट्रेलिया महाद्वीप आज संसार के प्रमुख औद्योगिक देशों में गिना जाता है।

कृषि एवं पशुपालन:

आस्ट्रेलिया का अधिकांश भाग वर्षा के अभाव में सूखा रहता है। केवल कारण केवल 4 प्रतिशत भू-भाग पर खेती होती है। अधिकतर खेती दक्षिणी-पश्चिमी ، दक्षिणी-पूर्वी तथा पूर्वी तटीय मैदानी भागों में होती होती।। इन भागों में पर्याप्त वर्षा होती है। जहाँ वर्षा नहीं होती वहाँ सिंचाई द्वारा खेती की जाती है।

भारत की तरह आस्ट्रेलिया भी कृषि प्रधान महाद्वीप है। गेहूँ यहाँ की मुख्य फसल है। यहाँ बहुत बड़े-बड़े कृषि फार्म हैं। खेती का सारा काम मशीनों द्वारा होता है। आस्ट्रेलिया महाद्वीप में गेहूँ शीतकाल में होता है। गेहूँ के मुख्य उत्पादक क्षेत्र डाउन्स के मैदान ، तटीय पश्चिमी-दक्षिण ، आस्ट्रेलिया तथा न्यूजीलैंड का केंटरबरी हैं।।

यहाँ गेहूँ की फसल के अनुकूल उपजाऊ मिट्‌टी ، शीतोष्ण जलवायु और साधारण साधारण होती है। यहाँ से गेहूँ बड़ी मात्रा में निर्यात किया जाता है। गेहूँ के अतिरिक्त जौ ، जई ، मक्का भी पैदा किए जाते हैं। गन्ना तम्बाकू तथा कपास क्वीन्सलैंड में पैदा होता है।

आस्ट्रेलिया महाद्वीप में फलों की खेती बहुतायात से होती है। महाद्वीप के उत्तर के ऊष्ण कटिबंधीय भाग में अनानास، केला، पपीता खूब होते हैं। सेब में भूमध्य-सागरीय जलवायु वाले प्रदेश में सेब، नाशपाती، नींबू، नारंगी، आडू और अंगूर की खेती खेती खेती।।।

अंगूर से शराब बनाकर निर्यात की जाती है। आस्ट्रेलिया के शीतोष्ण जलवायु वाले पूर्वी तथा पश्चिमी क्षेत्रों में पशुपालन किया जाता है।। यह महाद्वीप पशुपालन के लिये विश्व प्रसिद्ध है। पशुओं को आधुनिक वैज्ञानिक तरीकों से पाला जाता है।

कुछ पशु दूध ، मक्खन और पनीर के लिए कुछ पशुओं पशुओं मांस ऊन ऊन के लिए जाता जाता। ये पशु क्वीन्सलैण्ड ، दक्षिणी-पूर्वी क्षेत्र ، पश्चिमी व पूर्वी क्षेत्रों में पाले जाते हैं। आस्ट्रेलिया महाद्वीप मक्खन और पनीर का बड़ा निर्यातक देश है।

भेड़पालन:

आस्ट्रेलिया महाद्वीप में भेडों को मुख्यत: ऊन के लिए पाला पाला है। कुछ भेडे मांस के लिए भी पाली जाती हैं। आस्ट्रेलिया में भेडों की संख्या संसार में सबसे अधिक है। यहाँ भेडों को बड़े-बड़े बार्डो (फार्म हाऊस) में रखा जाता है जिसे जिसे भेड़पालन केंद्र कहते हैं हैं। ये केंद्र कई किलोमीटर क्षेत्र में फैले रहते हैं।

यहाँ के मरे-डार्लिग नदियों के बीच फैला क्षेत्र भेड़पालन के लिए सबसे अधिक अधिक उपयुक्त।। न्यूसाऊथवेल्स ، विक्टोरिया ، क्वीन्सलैण्ड तथा न्यूजीलैण्ड में भेडे पाली जाती हैं। यहाँ ऊन के लिए सामान्यत: 'मेरीनो' जाति की भेडें पाली जाती हैं। इनसे बहुत अच्छे किस्म की ऊन प्राप्त होती है।

भेड़पालन केन्द्र पर काम करने वाले मजदूरों जेकारू जेकारू कहते कहते हैं। ये भेडों को चराने तथा उनकी देखभाल करने का काम करते हैं। आस्ट्रेलिया में भेडों से ऊन उतारने (निकालने) के लिए आधुनिक मशीनों का प्रयोग किया जाता है। भेडों से ऊन उतारने के लिए अधिक मात्रा में कुशल श्रमिकों की जरूरत होती है।।

ऊन की गांठे बनाकर स्टेशनों तथा बंदरगाहों को भेज दी जाती हैं। आस्ट्रेलिया महाद्वीप संसार का सबसे बड़ा ऊन उत्पादक उत्पादक निर्यातक देश देश है। न्यूजीलैंड के द्वीपों में भी आस्ट्रेलिया के ही दुधारू और मांस तथा ऊन प्रदान करने करने पशुओं को को को को को मात्रा मात्रा में में है।। वहाँ का आर्थिक आधार ही पशुपालन है। गायें ، भेडें ، सुअर मुख्य पालतू पशु है। लगभग महाद्वीप में लगभग 18 करोड भेडें पाली जाती हैं।

खनिज:

आस्ट्रेलिया महाद्वीप का अधिकांश भाग पहाड़ी ، पठारी एवं मरूस्थलीय है। यह संसार के प्राचीनतम स्थलखंडों में से एक है। आस्ट्रेलिया में लौह अयस्क ، बाक्साइट ، मैंगनीज और सोने के भंडार हैं। इनके अतिरिक्त चाँदी ، यूरेनियम ، थोरियम ، ताँबा ، टिन की भी खदानें हैं।

पश्चिमी आस्ट्रेलिया में कालगूर्ली एवं कुलगार्डी सोने की संसार प्रसिद्ध खदानें हैं। क्वीन्सलैण्ड में भी बड़ी खदानें हैं। आस्ट्रेलिया में बाक्साइड अधिक होता है। इसकी बड़ी मात्रा में खपत देश के कारखानों में होती है अत: निर्यात कम हो पाता है। बाक्साइट से एल्युमीनियम बनाया जाता है। "ओपल" दूधिया रंग की धातु भी यहाँ पाई जाती है। जिसका उपयोग चूडियाँ तथा अ r ग्हूइठयाँऐ बनाने में होता है।

ऊर्जा के संसाधन:

आस्ट्रेलिया महाद्वीप में ऊर्जा के संसाधनों में कोयला ، खनिज तेल ، तथा प्राकृतिक गैस के भण्डार मुख्य हैं। कोयला न्यूसाऊथवेल्स ، क्वीन्सलैंड तथा न्यूजीलैण्ड की खदानों से निकाला जाता है। पश्चिम तटीय आस्ट्रेलिया और डाउन्स क्षेत्र में खनिज तेल व गैस के भण्डार हैं।।

प्रमुख उद्योग:

संसार के प्रमुख औद्योगिक देशों में आस्ट्रेलिया महाद्वीप को सम्मिलित किया जाता है। गत कुछ वर्षों में ही आस्ट्रेलिया महाद्वीप औद्योगिक क्षेत्र में जो उन्नति की है उसका उसका कारण आधुनिकतम आधुनिकतम आधुनिकतम आधुनिकतम आधुनिकतम का का प्रयोग प्रयोग है।।

यहाँ के आर्थिक विकास में उच्चस्तर की क्षमता सस्ता एवं कुशल कामगार वर्ग तथा तथा प्रतिस्पर्धात्मक उद्योग नीति सफल सफल रही है।। जहाँ की प्राकृतिक संपदाओं के दोहन से यहाँ उद्यमी निवासियों निवासियों का जीवन स्तर दिनों दिन ऊंचा ऊंचा उठता उठता रहा है।

यहाँ के शासन द्वारा शिक्षा स्वास्थ्य प्रशिक्षण एवं के साथ साथ साथ अन्य सुविधाओं पर विशेष विशेष ध्यान दिया जाता है।। यहाँ के प्रमुख उद्योगों में लोहा इस्पात، कृषि मशीनें، मोटर गाडियाँ، विद्युत विद्युत सामान، रसायन، सामान، जलयान، जलयान، मशीनी सामान और के।।

इनके अतिरिक्त सूती तथा ऊनी वस्त्र، मक्खन، पनीर، दूध पावडर، मांस और फलों को डिब्बे बन्द बन्द बन्द करने करने।।। यहाँ के अधिकांश उद्योग ऑस्ट्रेलिया के न्यूसाऊथवेल्स और विक्टोरिया राज्यों तथा न्यूजीलैण्ड में स्थित हैं।। सिडनी ، मेलबोर्न तथा एडिलेड मुख्य औद्योगिक नगर हैं। वेलिंगटन न्यूजीलैण्ड की राजधानी और प्रमुख औद्योगिक नगर तथा बन्दरगाह है।

यातायात:

आस्ट्रेलिया महाद्वीप में जलमार्ग ، थलमार्ग एवं वायुमार्ग का विकास बडे पैमाने पर हुआ है। अधिकांश राज्यों की राजधानियाँ समुद्र तट पर स्थित इस कारण कारण ये अच्छे बन्दरगाह भी हैं। आस्ट्रेलिया महाद्वीप में रेलमार्ग का विकास खनिज निकालने के कारण हुआ है।

खनिज पदार्थ निकालने वाले स्थानों को रेलमार्ग द्वारा बड़े बड़े नगरों से से जोड़ा गया है। इस महाद्वीप का सबसे बड़ा रेलमार्ग ट्रांस आस्ट्रेलियन है जो जो पश्चिम स्थित पर्थ पर्थ पूर्व पूर्व में में में में सिडनी सिडनी नगर नगर है।। लगभग कुल लम्बाई लगभग 4000 कि॰मी॰ है। आस्ट्रेलिया महाद्वीप के मुख्य नगर सड़क मार्ग द्वारा राज्यों की राजधानियों से जुडे हुए हैं।। यहाँ की प्रमुख सड़कों को 'कामनवेल्थ महामार्ग' कहते हैं। आस्ट्रेलिया लम्बी-लम्बी दूरियों का महाद्वीप है।

सुदूरवर्ती भेडपालन केंद्रों कृषि बस्तियों और छितरे नगर में पहुंचने पहुंचने के वायु परिवहन परिवहन का अत्यधिक अत्यधिक उपयोग होता है।। यहाँ पर वायुयानों का चिकित्सायान (एंबुलैंस) के रूप में में उपयोग है।। यात्रियों तथा सामान ढोने के लिए वायु परिवहन का अपना विशेष महत्व है।

आस्ट्रेलिया महाद्वीप संसार के प्रमुख देशों से वायु परिवहन द्वारा जुड़ा हुआ है। न्यूजीलैंड की राजधानी व प्रमुख औद्योगिक नगर भी जलमार्ग व वायुमार्ग से विश्व के देशों देशों तथा रेलमार्ग रेलमार्ग रेलमार्ग रेलमार्ग रेलमार्ग आंतरिक आंतरिक नगरों नगरों है।।

जनसंख्या:

आस्ट्रेलिया महाद्वीप संसार का सबसे विरल जनसंख्या वाला देश है। घनत्व जनसंख्या का औसत घनत्व 3 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर है। आस्ट्रेलिया में सघन जनसंख्या दक्षिणी-पूर्वी ، दक्षिणी-पश्चिमी एवं एवं पूर्वी तटीय में है।। यहाँ के मूल निवासी 'अबोरिजिनल' कहलाते हैं ، जबकि न्यूजीलैण्ड के मूल निवासी 'मावरी' कहलाते हैं।

ये लोग शिकार हेतु 'बूमरैंग' औजार का उपयोग करते हैं। यह औजार जिस पर फेंका जाता है उसे चोट हुए हुए फेंकने वाले के पास पुन: लौट आता है। यहाँ के मूल निवासी मध्य आस्ट्रेलिया में लाल लाल रंग की समूह जिसे युलुरू युलुरू कहा कहा जाता जाता जाता है बहुत बहुत पवित्र उसकी उसकी उसकी हैं।।। आस्ट्रेलिया में अनेक प्रजाति और संस्कृति के लोग रहते जिन्हें आस्ट्रेलियन आस्ट्रेलियन कहते कहते कहते हैं।

प्रमुख नगर एवं बन्दरगाह:

आस्ट्रेलिया महाद्वीप के प्रमुख नगर सिडनी ، मेलबोर्न ، पर्थ ، एडिलेड ، बिस्बेन ، केनबरा ، केनबरा ، होबार्ट ، वेलिंगटन आदि हैं। सिडनी ، आस्ट्रेलिया का सबसे बड़ा नगर और प्रथम श्रेणी का बन्दरगाह है। केनबरा ऑस्ट्रेलिया की राजधानी है।

 

ترك تعليقك